2 अक्टूबर का राशिफल

Read Time:4 Minute
Page Visited: 152
2 octका राशी फल
2 octका राशी फल

2 अक्टूबर का राशिफल

आज 2 अक्टूबर का राशिफल के अंतर्गत चन्द्रमा मीन राशी में है और इसका फल ज्योतिष के अनुसार क्या होगा? चलिए जानते है.

चन्द्र राशी राशिफल

काल पुरुष के पैरो में इसका स्थान होता है मुह और पूंछ से जुडी दो मछलियों की आकृति के सामान इसका स्वरुप होता है. ये स्त्रीजाति , कफ प्रकृति,दोहरे स्वाभाव,जलतत्व, विप्र वर्ण , रात्रि बलि, पीले रंग,और उत्तर दिशा की स्वामी होती है.

परोपकार, दयालुता, एवं दानशीलता इस राशी के विशेष गुण होते है. ये गुण राशी के स्वभाब्विक गुण होते है. कभी कभर इसमें थोड़ा परिवर्तन देखने को मिल जाता है वेह इस लिए की चन्द्र पर संगती का प्रभाव हो जाता है.

चन्द्र जो की मीन राशी में आज के दिन है, इसका पदार्पण लग्न में यहाँ पंचम भाव का स्वामी बन कर हुआ है. इसके निहितार्थ ये है की 2 अक्टूबर का राशिफल का राशीफल आप को अपनी संतान प्रति अपने सकारात्मक कर्तव्यों और मनोभावों के प्रति सचेत कर रहा है .

कुल मिला कर मतलब ये है की आज आप को अपनी संतान के प्रति उसके कुछ रुके हुए कमाओ को करना होगा . जैसे स्कूल फीस का जमा करना. उसके पसंद के कपडे दिलवाना. कही घुमने ले जाना इसे प्रकार के काम

यदि संतान छोटी न होकर बड़ी उम्र की है तो हो सकता है की उसके लिए वर या वधु की तलाश करने जाना पड़े. क्योंकि पञ्च मेष चन्द्रमा लग्न में बैठ कर सप्तम भव को देख रहा है.

यहाँ चंद्रमा क्योकि पूर्ण मासी का है तो संतान की मनोभावनाए काफी जोर मार रही है की उसको भी कोई जीवन साथी मिलना चाहिए.

संतान का रुख.

एसा नहीं है की केवल आप ही संतान के प्रति कर्तव्य बोध रखेंगे ठीक इसी के उलट संतान भी ऐसा ही भाव आप के प्रति दिखा रही होगी. क्योकि उसका प्रेम पूर्ण व्यवहार आप से उसे कुछ न कुछ दिलाने वाला है.संतान यदि सक्षम है तो वेह अपने माँ बाप को कुछ न कुछ उपहार दिलाने के लिए उत्सुक होगी.

शनि की दृष्टि (2 अक्टूबर का राशिफल)

यहाँ आपको सचेत कर दूँ की एकादशेश द्वादशेश शनि स्व स्थान में बैठ कर पंचमेश और पंचम भाव चन्द्रमा को तीसरी और सातवी दृष्टि से देख रहा है अत अपने आश्रितों को भिखारियों को पीपल को जल दीपक अनुदान आदि देना न भूले वरना बनते हुए काम बिगड़ सकते है.

नवागमन

आज का राशिफल के रूप में मीन का चन्द्रमा एक और या प्रथम नवग्मन की और संकेत कर रहा है और वेह है आप के घर में एक नन्ही किरण प्रवेश करने वाले है. यदि आप नव युगल हो और चाहते हो की आपके घर में संतान भी आए तो तैयार हो जाइये ये मनोकामना पूर्ण होने वाले है.

नामाक्षर

नामाक्षर को हम सुझा देते है इन नामाक्षारो में से आप जो चाहे नाम अपने नवागंतुक का रख सकते है.मीन राशी में पढने वाले तीन नक्षत्र पूर्व भाद्रपद, उत्तर भाद्रपद, रेवती

2 अक्टूबर का राशिफल— आज के दिन रेवती नक्षत्र है अत अंतिम 4 नामाक्षर में से ही जातक का प्रथम नाम शुरू होगा.

दी,दू,थ ,झ, अं दे,दो,चा ची,

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

अपनी कुंडली स्वयं बनाओ

बनी हुई कुंडली को देखन या कंप्यूटर से कुंडली बनाना एक ही बात है लेकिन अपनी कुंडली बनाओ इसको यहाँ बताना हमारा उद्देश्य है.

question hub answer

गूगल के question hub से प्राप्त प्रश्नों के उत्तरों को हम यहाँ यथा प्रयास लघु और विस्तार सहित दे रहे है आशा है आप को...