सिंह राशि

सिंह राशि

भारतीय ज्योतिष की 12 रशियो में सिंह राशि का महत्व क्या है ? यहाँ इसको रखने वाला कितने गोरव पूर्ण जीवन का भोक्ता है एक विवेचन प्रस्तुत है.

सिंह राशि का महत्व

सिंह राशि ज्योतिष शास्त्र की पांचवीं राशि है, जो 120डिग्री से 150डिग्री के मध्य स्थित है। यह अग्नि, अचर, पुरूष चरित्र से युक्त है। सिंह राशि का महत्व आदमी में साफ़ झलकता है. इस राशि का स्वामी सूर्य है। लेकिन अन्य कोई ग्रह इस राशि में उच्च या नीच नहीं होता है

भावो के विषय में सिंह राशि का महत्व

सिंह राशि चंद्र, मंगल व गुरू के लिए मित्र स्थान है, और बुध शुक्र व शनि के लिए शत्रु स्थान है।

मघा व पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्रों के चारों चरण तथा उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र का प्रथम चरण सिंह राशि के अंतर्गत आता है। सिंह राशि का चिंह भी इस राशि के अनुसार सिंह ही है।

सिंह राशी के नामाक्षर

मा , मी मु, में,मो , टा ,टी,टू ,टे


शरीर गठन में सिंह राशि का महत्व

सिंह राशि वालों में आकर्षक शरीर, मजबूत हडडी, चैडे़ कंधे, औसर उंचाई, शरीर के उपर के हिस्से का गठन अधिक आकर्षक होता है।

मनोवृत्ति

सिंह राशि वालों को साहित्य कला संगीत के प्रति विशेष लगाव होता है। महत्वाकांशी, गर्मजोशी। प्रसन्न चित सहृदय व स्थिर चित्त स्वभाव होता है।

सामान्य चरित्र में सिंह राशिका महत्व

सिंह राशि वालों में सिंह के समान अन्य उपस्थित व्यक्तियों के बीच अपनी उपस्थिति को अनुभव कराने की महत्त्वाकांक्षा दूसरों से ज्यादा होती है .

इनमे लोगो को कठिनाई में उनको सहायता देने की तथा अपनी मित्र मंडली रखने की प्रवृत्ति होती है।

इसके अलावा आत्मविश्वासी, विश्वासपात्र तथा दूसरों को व परिस्थिति को अपने अनुकूल बनाने की क्षमता से युक्त होते हैं।

सिंह राशि वालों में सदैव अघ्ययन की प्रवृत्ति, सदव्यवहार तथा संवेदनशील। क्षमाशीलता तथा दूसरो की गल्तियों को भुला देने की प्रवृत्ति से युक्त होते हैं।

ये सरल न्याय पूर्ण खुला व्यक्तित्व वाले व कठिनाई के क्षणों में इनकी कार्य क्षमता विशेष रूप से खुल कर सामने सामने आती है।

इनका कला साहित्य व संगीत के प्रति विशेष लगाव होता है । दूसरों के विचार व सुझाव की ओर ध्यान न देने की प्रवृत्ति जिसके कारण इन व्यक्तियों के संबंध अपने वरिष्ठ अधिकारियों व सहयोगियों से मधुर नहीं रह पाते। इस प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने की आवश्यकता है।
राशि परिचय

सिेंह राशि वालों में स्वास्थ संबंधि परेशानियों पर विजय पाने की विशेष क्षमता होती है। यद्यपि कुछ विशेष परिस्थितियों में ये कष्ट में चिंतित हो जाते हैं।

सामान्यत इनका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। यदि इनकी कुंडली में रोग संबंधि लक्षण होंगे तो हृदय रोग की आशंका रहती है।

तो इस प्रकार आपने देखा की अन्य राशी वालो के सामान ही सिंह राशी वाले भी कुछ नकारात्मकता के साथ अपने अन्दर खूबियों को भी सहेजे हुए होते है.

सिंह राशी
सिंह राशी

Leave a Reply

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि की आकृति कंधे पर घड़ा लिए हुए पुरुष की होती है. दोनों पिंडलियों पर इसका अधिकार होता है. भ चक्र की ये ग्यारहवी...

Translate »
%d bloggers like this: