वृश्चिक राशि

Read Time:3 Minute
Page Visited: 143
वृश्चिक राशि
वृश्चिक राशि
वृश्चिक राशि

राशि मंडल में स्थित आठवी राशि वृश्चिक राशि है, जोकि काल पुरुष के शरीर में गुप्त स्थान में अपना आधिपत्य रखती है.

राशि परिचयवृश्चिक राशि की आकृति बिच्छु के सामान होती है. ये एक स्त्री राशि है , स्थिरता इसका गुण है,जल तत्व वाली होती है, उज्जवल रंग होता है.उत्तर दिशा की स्वामिनी होती है.ब्राह्मण वर्ण वाली, कफ प्रकृति वाली और ज्यादा संतान वाली होती है. स्थिरता के गुण के कारण इसके जातक द्रिड निश्चय वाले होते है.साथ ही स्पष्ट वक्ता भी होते है.

शरीर की ऊंचाई लम्बाई का विचार और शरीर की जनन इन्द्रिय का विचार भी इसी वृश्चिक राशि से किया जाता है.आगे पीछे जानो

राशि मंडल में इस वृश्चिक राशि का स्थान 210 से 240 डिग्री के मध्य होता है यह अचर प्रकृति जलीय गुण व् नारी स्वाभाव की राशि होती है.इसका स्वामी मंगल होता है, कोई भी ग्रह इस राशि में उच्चत्व को प्राप्त नहीं करता है. लेकिन चन्द्रमा यदि इस राशि में हो तो 3 डिग्री पर नीचंश का हो जाता है.

क्यांकि सूर्य और गुरु वृश्चिक राशि के स्वामी मंगल के मित्र होते है तो ये दोनों इस राशि में आने पर बलवान हो जाते है.

ठीक इसके उलट बुध, शुक्र व् शनि के लिए ये एक शत्रु स्थान है अतः इस राशि में आने पर ये बलहीन हो जाते है, इस राशि का sign बिच्छु होता है. विशाखा नक्षत्र का चतुर्थ चरण और अनुराधा और ज्येष्ठ नक्षत्रो के चारो चरण इस राशि के अंतर्गत आते है.

शारीरिक गठन

माध्यम स्तर से अधिक ऊंचाई , सुंदर सुगठित शरीर , लम्बे हाथ , चोडा माथा, छोटे घुंघराले बाल,मजबूत हड्डियों वाला शरीर, बड़ी – बड़ी ऑंखें , प्रभावशली व्यक्तित्व वाले लोग वृश्चिक राशि वाले होते है.

मानसिकता

स्थिर मानसिकता वाले और उदार स्वभव वाले होते है. उत्तेजना प्रदान करने वाली चीजो से लगाव रखते है, जैसे मदिरा पान धूम्रपान आदि व्यसन, उद्यमी स्वभाव स्वतंत्र किस्म के बुद्धिमान व्यक्ति वृश्चिक राशि वाले होते है.कम खर्चीले परिस्थितियों पर नियंत्रण करना जानते है. यदि चिकित्सक हो तो रोग की पहचान शीघ्र करने वाले होते है. शत्रुओ से बदला लेने की इच्छा रखने वाले होते है. स्पष्ट विचार सादगी पसंद होते है.

मनोवृत्ति

कठिन परिस्थितियों में भी धेर्य पूर्वक प्रयास करना जारी रखते है.दूसरो की आलोचना करना व् सुनना पसंद करते है. भावस्वामियों के फल

वृश्चिक राशी वालो को मदिरापान व् अन्य प्रकार के नशीले पदार्थो के सेवन से बचकर रहना चाहिए इस राशि वालो को बवासीर की बीमारी होने की आशंका बनी रहती है.

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

अपनी कुंडली स्वयं बनाओ

बनी हुई कुंडली को देखन या कंप्यूटर से कुंडली बनाना एक ही बात है लेकिन अपनी कुंडली बनाओ इसको यहाँ बताना हमारा उद्देश्य है.

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि की आकृति कंधे पर घड़ा लिए हुए पुरुष की होती है. दोनों पिंडलियों पर इसका अधिकार होता है. भ चक्र की ये ग्यारहवी...