कर्क राशि

कर्क राशि
कर्क राशि
कर्क राशि

राशियों की श्रंखला में चौथा नंबर कर्क राशि का होता है. ये एक जलचर और केंकड़े की तरह की राशि होती है.

कर्क राशि कल पुरुष के वक्ष स्थल (chest) में स्थित होती है. ये राशि स्त्री जाति , चर संज्ञक , कफ प्रकृति , रात्रि बलि , मिश्रित रंग.बहुत संतान वाली , और उत्तर दिशा की स्वामिनी होती है. भौतिक सुखो में लगे रहना , लज्जालु, स्थिर गति , समयनुसार निर्णय लेना इस राशी वालो का स्वाभाव होता है. इस राशी से पेट,सीना और गुर्दे का विचार किया जाता है.

राशि मंडल में इसका स्थान 90 से 120 डिग्री के मध्य होता है. कर्क राशि एक मूक (साइलेंट)राशि है, इस राशि का स्वामी चंद्रमा होता है इस राशी में गुरु होने पर उच्च का प्रभाव रखता है, लेकिन मंगल इसमें नीच का प्रभाव रखता है. सूर्ये का यह मित्र स्थान होता है. बुध, शुक्र शनि का यह शत्रु स्थान होता है.

पुनर्वसु नक्षत्र का चोथा चरण , पुष्य और अश्लेशा नक्षत्र के चारो चरण इस राशि के अंतर्गत आते है. इसका स्वरुप केंकड़े जैसा होता है.

कर्क राशि
कर्क राशि

शारीरिक गठन-

मध्यम ऊंचाई , बड़ा चेहरा, उम्र बढ़ने के साथ-साथ पेट भी बढ़ता जाता है.शरीर का ऊपर का हिस्सा बड़ा होता है. और भारी होता है. लेकिन हाथ व् पैर पतले होते है. सीना चोडा होता है.

मानसिकता

कर्क राशी वाले सहनशील नहीं होते है व् इनमे धेर्य की भी कमी होती है. संगीत प्रेमी और कल्पना शील होते है. मानसिकता में निरंतर परिवर्तन होता रहता है. जल्दी ही क्रोध आ जाना , कभी कभी साहसी बन जाते है कभी कभी दब्बू सिद्ध होते है.

साधारण चरित्र –

बहुत बुद्धिमान , कंजूस, महनती, किसी को भी किसी भी परिस्थिति को आसानी से समझने की अन्तर्निहित शक्ति वाले होते है.ये लोग कर्तव्य परायण और अपने उत्तरदायित्व को समझने वाले होते है. पुराणी घटनाओ व् पुराने आदमियों को याद रखने और उनका जिक्र बार बार करने की आदत कर्क राशी वालो में होती है. प्यार व् न्याय पूर्ण व्यवहार और अतिथि सत्कार करना इनकी विशेषता होती है.question hub answer

स्वास्थ्य-

इस राशि वालो का स्वास्थ्य बचपन व् यौवन काल में अच्छा नहीं रहता है. सांस की बीमारी व् पाचन तंत्र में गड़बड़ी इस राशी वालो को परेशान रखती है.अतः इनसे सावधान रहना चाहिए, अच्छे भोजन को प्राप्त करने की लालसा पाचन सम्बन्धी बीमारियों को बदहवा देते है.

मदिरा पान की आदत भी इनमे हो सकती है. जिस पर तुरंत रोकथाम की जरुरत है.

Leave a Reply

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि की आकृति कंधे पर घड़ा लिए हुए पुरुष की होती है. दोनों पिंडलियों पर इसका अधिकार होता है. भ चक्र की ये ग्यारहवी...

Translate »
%d bloggers like this: