कन्या राशि

Read Time:4 Minute
Page Visited: 128
कन्या राशि
कन्या राशि
कन्या राशि

नौका पर बैठी हाथ में दीपक लिए कन्या के सामान आकृति वाली छवि का नाम है कन्या राशि

कन्या राशि का अधिकार शरीर में उदर अर्थात पेट पर होता है. इसका स्थान हरी घास वाली भूमि, स्त्री, रति स्थान, और चित्र शाळा में होता है. यह एक द्विस्वभाव राशि है.स्त्री इसकी जाती है.पिंगल वर्ण अर्थ कुछ श्याम वर्ण वाली , दक्षिण, दिशा की स्वामिनी होती है. पृथ्वी तत्व , वायु, और शीत प्रकृति, अल्प संतान वाली,शिथिल शरीर वाली होती है. इस राशी से पेट का विचार किया जाता है.इस राशी वाले निरंतर उन्नति करने वाले,और स्वाभिमानी पुरुष होते है.

राशी मंडल में स्थित ज्योतिष चक्र की छठी कन्या राशी का राशी मंडल में 150 से 180 डिग्री के मध्य होता है.यह पृथ्वी तत्व द्विस्वभाव नारी गुणसम्पन्न नारी राशी होती है.

इस राशी का स्वामी बुध होता है, बुध कन्या राशी में ही स्वग्रही, मूल त्रिकोण में व् उच्च का होता है. शुक्र ऐसे तो बुध का मित्र है लेकिंन कन्या राशी में आने पर नीच का हो जाता है. (ध्यान रहे नीच से अर्थ अंशात्मक कमी से है न कि स्वाभाविक नीचता से ) सूर्य चन्द्र मंगल, गुरु के लिए यह राशी एक शत्रु राशी होती है.सिर्फ शनि के लिए ये एक मित्र राशी है.नक्षत्र में ग्रहो की उच्चता

उत्तर फाल्गुनी नक्षत्र के प्रथम 2-3-4 चरण ,हस्त नक्षत्र के चारो चरण , व् चित्र नक्षत्र के 1-2 इस राशी के अंतर्गत आते है. चित्रात्मक वस्त्र पहन कर हाथ में दीपक लिए हुए इस राशी का चिन्ह होता है.

शारीरिक गठन

माध्यम ऊंचाई , बड़ा और उभरा हुआ माथा. सदैव सक्रीय व् पतली आवाज में बोलने wale सीढ़ी लम्बी नाक, तीखी व् गहरे से देखती हुई नजर,शारीरिक गठन सुडौल होता है.

मानसिकता

सदैव अध्ययन शील,भावुक प्रवृत्ति के होते है. आत्मविश्वास की कमी वाले, हमेश सक्रीय रहने वाले, किसी भी कार्य को सुचारू रूप से करने की प्रवृत्ति वाले होते है. कला साहित्य और संगीत के प्रति विशेष लगाव रखते है.ज्योतिष गुरु भारत

सामान्य चरित्र

अपनी बात को संशिप्त रूप से कहने की प्रवृत्ति वाले होते है साथ ही दूसरो की बात भी संषेप में सुनना पसंद करते है. किसी समस्या को गहराई से सोच कर व्यावहारिक रूप से कार्यान्वित करते है. दूसरो की गलतियों को शीघ्र ही पकड़ लेते है.अतः ये लोग पत्रकार और auditor क्षेत्र से सम्बंधित होते है.

बचपन से ही कन्या राशी वाले बच्चो की प्रतिभा सामने आने लगती है.सतर्कता से कार्य करने वाला मुसीबत के समय के लिए धन बचाकर रखने वाला होता है.इसलिए ऐसे व्यक्ति को कभी आर्थिक संकट का सामना नहीं करना पड़ता है.सप्तवर्ग के फल(ग्रह बल)

अपने व्यवसायिक कागज पत्र संभल कर रखते है. विज्ञानं व् गणित विषयो में विशेष रूचि होती है. साथ ही कला साहित्य व् संगीत को पसंद करने वाले होते है.ऐसे लोगो के लिए गणित और विज्ञानं विषय विशेष लाभ दायक होता है.रूचि के रूप में कला व् साहित्य को बढ़ावा देना चाहिय

ये दूसरो की प्रतिभा से शीघ्र ही प्रभावित हो जाते है.लेकिन निर्णय के समय स्वविवेक का प्रयोग करते है. कन्या राशि के लग्न वालो की पाचन शक्ति कमजोर होती है. लीवर कमजोर रहता है.

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

अपनी कुंडली स्वयं बनाओ

बनी हुई कुंडली को देखन या कंप्यूटर से कुंडली बनाना एक ही बात है लेकिन अपनी कुंडली बनाओ इसको यहाँ बताना हमारा उद्देश्य है.

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि की आकृति कंधे पर घड़ा लिए हुए पुरुष की होती है. दोनों पिंडलियों पर इसका अधिकार होता है. भ चक्र की ये ग्यारहवी...